फरेब बहुत है यहाँ चाहने वालों की महफ़िल में।उसके नर्म हाथों से फिसल जाती है चीज़ें अक्सर ….,टुकड़े पड़े थे राह में किसी हसीना की तस्वीर के…… Read More


थक गया हूँ मै, खुद को साबित करते करते, दोस्तों..ये किया नहीं,वो हुआ नहीं,ये मिला नहीं,वो रहा नहीं.देखो तुम भी जिन्दा हो, मैँ भी जिन्दा हूँ….… Read More


जो खुद तो सो जाता है, मुझे करवटों में छोड़ कर!मेरे तरीके गलत हो सकते हैं, लेकिन इरादे नहीं…!!!टुकड़े पड़े थे राह में किसी हसीना की तस्वीर के… Read More